Part 1)सार शब्द का भेद |आदिनाम क्या है |पूरी जानकारी

सत साहेब, सभी भक्तो को

#सार शब्द #आदिनाम#विदेह शब्द
आज इस वीडियो के माध्यम से दास ने बताया आदिनाम “52” अक्षर मे ही आता है |
लेकिन उस का सुमिरन न्यारा है |
सार शब्द को लिखा भी गया है, लेकिन कबीर पंथ मे किसी के भी पास नहीं ये
सार नाम, बस पूर्ण संत के पास है | बाकि सब कालके दूत है |

गढ़ कालिंजर वाले कालदूत को, उत्तर प्रदेश मे, इनका आश्रम है | इस कालदूत ने सार शब्द “को ही “परमात्मा ” मानलिया औसतलोक सत्य पुरुष का खंडन किया |
और ये एक “प्रेत” का चलाया मार्ग है, “कबीर” साहेब का नहीं |क्यू की ये (रंभदूत )
का पंथ है |

इसकी पोल दास ने खोली है क्या नाम देते है,
इनके पास जो नाम लेंगा वो प्रेत बनके भटकता रहेगा |

आदिनाम जो है वो शब्द मे आता है, उसका भेद बिना सतगुरु के कोई नहीं जानता है |

और परम पूज्य संत रामपालजी ही पूर्ण ज्ञानी है, पुरे विश्व को उनसे नाम लेना पड़ेगा, क्यू की हर समस्या का समाधान उनके ही पास है|

note :आदिनाम हम भाख सुनाया, मुर्ख जीव मर्म ना पाया |

सत साहेब………
thanks for watching………

Subscribe my channel………….
(like, share, comment )…………..

Disclaimer:-video is for educational parpose only. copyright disclaimer under section
107 of the copyright act 1976, allowance is made for, fair use, for
parpose such as criticism, comment, new reporting, teaching, scolarship, and resarch fair use permitted by copyright statute that
that might otherwise infringing. non -profit, educational or personal use tips the balance in favor of fair use.
——————————————————

source

About The Author
-